सोशल साइट समाज के जागरूकता का काम | सोशल साइट ने उपलब्ध कराया जनता को नया मुकाम ||

Breaking

Monday, February 4, 2019

यज्ञ से देवता खुश होकर वर देते है।


मौनी अमावश्या पर आर्दश कालोनी मे पांच कुण्डीय गायत्री यज्ञ।
यज्ञ हवन आदी करने से देवता प्रसन्न होकर यजमान को वरदान प्रदान करते है तथा हवन से प्रर्यावरण शुद्व हो जाता है जिससे शारीरिक कष्ट समाप्त हो जाते है। हवन करने का मनोवैज्ञानिक महत्व भी साबित हो चुका है। हवन करने के कई प्रकार के लाभ मिले है। ये विचार आर्दश कालोनी मे पांच कुण्डीय यज्ञ की पूर्व संध्या पर रविवार को हुई सतसंग मे पंडित सीताराम पारीक व उपेन्द्र कुमार ने प्रवचनों मे कही।  कालोनी मे रविवार की रात को दीप यज्ञ कार्यक्रम हुआ। जिसमे कालोनी वासियों ने प्रत्येक घर से दीप लेकर सामूहिक रूप से दीप यज्ञ मे भाग लिया। जिसमे पंडित उपेन्द्र कुमार व सीताराम पारीक ने मंत्रोचार के साथ दीप यज्ञ सम्पन्न कराया। सोमवार को कालोनी के दाधीच भवन मे सुबह दस बजें से पांच कुण्डीय यज्ञ का आयोजन किया। यज्ञ मे अशोक कुमार मित्तल, सत्यनारायण शर्मा, हरकाराम चौधरी, गोपाल पाराशर, बजरंग दाधीच, अशौक कुमार सारस्वत, युधिष्ठर गहलोत, हीरालाल लखारा, जीतमल सोनी, गणेश राम प्रजापत आदी यजमानों  ने सपत्नीक यज्ञ मे बैठकर देव शांती, पितृ शांती और विश्व शांती की कामना के साथ आहुतिया दी। सोमवार को मौनी अमावश्या के अवसर पर शहर की आर्दश कालोनी मे पंडित उपेन्द्र कमार और सीताराम पारीक के मार्ग दर्शन से करीब दो बजे यज्ञ की पूर्णाहूति हुई जिसमे कालोनी सहित शहर के विभिन्न मौहल्लो से आये ग्रामीणेां और महिला श्र्रदालुऔं  ने दर्शन किया और आरति के बाद प्रसाद ग्रहण किया।  पंडित उपेन्द्र कुमार ने जानकारी देकर बताया की इस वर्ष  गायत्री शक्ति पीठ द्वारा गंाव गंाव हवन, सतसंग आदी के कार्यक्रमों द्वारा लोगो मे धर्म के प्रति जाग्रती लाने का प्रयास किया जा रहा है। इसी प्रकार डेगाना शहर के सभी मौहल्लों मे माँ गायत्री के पांच कुण्डीय यज्ञ किये जायेंगे।

No comments:

Post a Comment

Pages